Skip Navigation Links
HANURAMLAX किष्किंधाकाण्ड की पीडीएफ फाइलें यहाँ से प्राप्त करें-- किष्किंधाकाण्ड सम्पूर्ण
एम एस वर्ड में प्राप्त करें-- किष्किंधाकाण्ड एमएस वर्ड
अन्य फाइलें नीचे से प्राप्त करें--

Skip Navigation Links

श्रीरामचरितमानस

किष्किंधाकांड

राम ऋष्यमूक पर्वत के निकट आ गये। उस पर्वत पर अपने मंत्रियों सहित सुग्रीव रहता था। सुग्रीव ने, इस आशंका में कि कहीं बालि ने उसे मारने के लिये उन दोनों वीरों को न भेजा हो, हनुमान को राम और लक्ष्मण के विषय में जानकारी लेने के लिये ब्राह्मण के रूप में भेजा। यह जानने के बाद कि उन्हें बालि ने नहीं भेजा है हनुमान ने राम और सुग्रीव में मित्रता करवा दी।
सुग्रीव ने राम को सान्त्वना दी कि जानकी जी मिल जायेंगीं और उन्हें खोजने में वह सहायता देगा साथ ही अपने भाई बालि के अपने ऊपर किये गये अत्याचार के विषय में बताया। राम ने बालि का वध कर के सुग्रीव को किष्किन्धा का राज्य तथा बालि के पुत्र अंगद को युवराज का पद दे दिया। राज्य प्राप्ति के बाद सुग्रीव विलास में लिप्त हो गया और वर्षा तथा शरद् ऋतु व्यतीत हो गई। राम के नाराजगी पर सुग्रीव ने वानरों को सीता की खोज के लिये भेजा।
 सीता की खोज में गये वानरों को एक गुफा में एक तपस्विनी के दर्शन हुये। तपस्विनी ने खोज दल को योगशक्ति से समुद्रतट पर पहुँचा दिया जहाँ पर उनकी भेंट सम्पाती से हुई। सम्पाती ने वानरों को बताया कि रावण ने सीता को लंका अशोकवाटिका में रखा है। जाम्बवन्त ने हनुमान को समुद्र लांघने के लिये उत्साहित किया। नीचे किष्किंधाकाण्ड से जुड़े घटनाक्रमों की विषय सूची दी गई है। आप जिस भी घटना के बारे में पढ़ना चाहते हैं उसकी लिंक पर क्लिक करें।
*** मंगलाचरण
*** श्री रामजी से हनुमानजी का मिलना और श्री राम-सुग्रीव की मित्रता

*** सुग्रीव का दुःख सुनाना, बालि वध की प्रतिज्ञा, श्री रामजी का मित्र लक्षण वर्णन
*** सुग्रीव का वैराग्य
*** बालि-सुग्रीव युद्ध, बालि उद्धार, तारा का विलाप

*** तारा को श्री रामजी द्वारा उपदेश और सुग्रीव का राज्याभिषेक तथा अंगद को युवराज पद
*** वर्षा ऋतु वर्णन
*** शरद ऋतु वर्णन


*** श्री राम की सुग्रीव पर नाराजी, लक्ष्मणजी का कोप
*** सुग्रीव-राम संवाद और सीताजी की खोज के लिए बंदरों का प्रस्थान


*** गुफा में तपस्विनी के दर्शन, वानरों का समुद्र तट पर आना, सम्पाती से भेंट और बातचीत
*** समुद्र लाँघने का परामर्श, जाम्बवन्त का हनुमान्‌जी को बल याद दिलाकर उत्साहित करना, श्री राम-गुण का माहात्म्य


श्रीरामचरितमानस

किष्किंधाकांड

Skip Navigation Links